सावधान! बाजार में आ गई है जहरीली अदरक... देखने में लगती है साफ और चमकदार

सावधान! बाजार में आ गई है जहरीली अदरक... देखने में लगती है साफ और चमकदार

हम सभी जानते हैं कि हमारे खाने में और खासकर हमारी सुबह की चाय में अदरक का कितना ज्‍यादा महत्‍व है। यह ना केवल खाने का स्‍वाद बढ़ाती है बल्‍कि सेहत के लिये भी काफी फायेमंद है।

लेकिन अगर आपको पता चले कि इन दिनों बाजार में हमें जहर से भरी हुई अदरक महंगे दामों में बेची जा रही है तो?? सब्‍जी मंडी या ठेलों पर से जो आप अदरक लेते हैं, वह दिखने मे काफी साफ-सुथरी और चमकदार दिखती है, जिसको देख कर आप उसे खरीदने से खुदको नहीं रोक पाते।

एक हफ्ते में वाटर वेट से छुटकारा पाना है तो ये तरीके आजमाएं

एक हफ्ते में वाटर वेट से छुटकारा पाना है तो ये तरीके आजमाएं

अक्सर यह माना जाता है कि पानी पीना सेहत के लिए अच्छा होता है लेकिन कभी कभी ज्यादा पानी पीना भी हमारी सेहत के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है।

आप सोंच रहे होंगे भला ये क्‍या बात होती है, पानी से भला कैसे नुकसान हो सकता है। पर क्‍या आपने वॉटर वेट के बारे में सुना है।

क्‍या आपके फेस पर या बॉडी में सूजन दिखती है या फिर क्‍या लाख जिम में वर्कआउट करने के बाद भी वजन कम होने का नाम नहीं लेता। तो इसका साफ मतलब है कि आपका वजन पानी की वजह से बढा हुआ है।

अंकुरित दानों का सेवन कब

अंकुरित दानों का सेवन केवल सुबह नाश्ते के समय ही करना चाहिये। 
अंकुरित आहार शरीर को नवजीवन देने वाला अमृतमय आहार कहा गया है।
अंकुरित भोजन क्लोरोफिल, विटामिन (`ए´, `बी´, `सी´, `डी´ और `के´) कैल्शियम, फास्फोरस, पोटैशियम, मैगनीशियम, आयरन, जैसे खनिजों का अच्छा स्रोत होता है।
अंकुरीकरण की प्रक्रिया में अनाज/दालों में पाए जाने वाले कार्बोहाइट्रेड व प्रोटीन और अधिक सुपाच्य हो जाते हैं।

पथरी का आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक इलाज

पथरी का आयुर्वेदिक

पथरी का आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक इलाज 
सबसे पहले कुछ परहेज !
मित्रो जिसको भी शरीर मे पथरी है वो चुना कभी ना खाएं ! (काफी लोग पान मे डाल कर खा जाते हैं )
क्योंकि पथरी होने का मुख्य कारण आपके शरीर मे अधिक मात्रा मे कैलशियम का होना है | मतलब जिनके शरीर मे पथरी हुई है उनके शरीर मे जरुरत से अधिक मात्रा मे कैलशियम है लेकिन वो शरीर मे पच नहीं रहा है वो अलग बात हे| इसलिए आप चुना खाना बंद कर दीजिए|
आयुर्वेदिक इलाज !
______

पाउच वाला पानी अमृत नहीं जहर है

पाउच वाला पानी अमृत नहीं जहर है

तपिश भरी गर्मी में हर किसी को दो बूंद पानी की दरकार होती है। सूखते कंठ की प्यास बुझाने के लिए इन दिनों पानी के पाउच और बोतलों की बिक्री में खासा इजाफा हो रहा है। पानी पाउच के कारोबारी इन दिनों पानी की गुणवत्ता और मानकों का भी ध्यान नहीं रख रहे हैं। सार्वजनिक स्थलों, चौराहों और बस स्टैंडों पर इन पाउचों की भारी खपत हो रही है।
दो रुपये में मिलने वाला पानी का पाउच लोगों की प्यास बुझाने के नाम पर बीमारियां परोस रहा है।पाउच वाला पानी पीने का सीधा असर सेहत पर पड़ता है। इसलिए इस पानी को पीने से बचना चाहिए। 

1. पाउच वाले पानी के नुकसान :

Pages

Subscribe to NutriWorld RSS