फिट रहना है तो प्याज से करें प्यार

प्याज से करें प्यार

प्याज का प्रयोग लगभग प्रत्येक भारतीय रसोई में कच्चे एवं पक्के दोनों रूप में किया जाता है। इसका लैटिन नाम ऐलियम सिफा है। यह जमीन के अंदर उगती है। इसकी ऊपरी शक्ल गहरे कत्थई, लाल तथा सफेद रंगों में होती है। प्याज की प्रकृति गर्म और खुश्क होती है। रसोई में इसकी पैठ मध्य तथा उत्तर भारत में बहुतायत से है। इसे गरीबों की कस्तूरी कहा जाता है। इसका उत्पादन गर्मी में ज्यादा होता है। यही कारण है कि गर्मी में लगने वाली लू का इलाज भी यही प्याज है।

फिट रहना है तो रात में कम, सुबह ज्यादा खाएं

फिट रहना है तो रात में कम, सुबह ज्यादा खाएं

जर्नल ऑफ न्यूट्रीशन में प्रकाशित रिसर्च में दावा किया गया है कि इटक यानी बॉडी मास इंडेक्स को ठीक रखने और शरीर को स्वस्थ और फिट रखने के लिए रात में कम से कम खाएं लेकिन नाश्ता भरपूर करें। 50 हजार लोगों पर करवाए गए एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि सुबह नाश्ते के समय सबसे ज्यादा आहार लेने वाले लोगों का इटक उन लोगों की तुलना में कम होता है जो दिनभर कम खाने के बाद रात को छक कर ढेर सारा खाना खाते हैं। खास बात यह है कि दोनों ही तरह के लोग पूरे दिन बराबर कैलरी लेते हैं। अमेरिका में लोमा लिंडा यूनिवसर्टी स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक सुबह के नाश्ते और रात के भोजन के बीच वक्त

बेसन त्वचा से जुड़ी कई समस्याओं को दूर करता है

बेसन त्वचा से जुड़ी कई समस्याओं को दूर करता है

बेसन तो हर घर में आसानी से मिल जाता है। इससे पकौड़े, सब्जी और मीठा बनाने में इस्तेमाल किया जाता है लेकिन सिर्फ खाने में ही नहीं बल्कि बेसन से की ब्यूटी ट्रीटमैंट भी किए जा सकते हैं। बेसन का लेप बनाकर चेहरे पर लगाने से त्वाच में निखार आता है और इससे स्किन से जुड़ी कई समस्याओं से भी छुटकारा पाया जा सकता है। आइए जानिए बेसन से और क्या-क्या फायदे होते हैं। 
1. ऑयली स्किन : कुछ महिलाओं की त्वचा बहुत तैलीय होती है। इसके लिए बेसन में कच्चा दूध मिलाकर चेहरे पर लगाएं और कुछ देर बाद पानी से साफ करें। हफ्ते में 2 बार इसका इस्तेमाल करने से त्वचा का एक्सट्रा तेल निकल जाएगा।

मूड खराब है तो अपनाएं ये टिप्स

मूड खराब है तो अपनाएं ये टिप्स

मूड में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। समय के साथ मूड ठीक भी हो जाता है, किंतु कुछ लोगों पर मानसिक दबाव इतने अधिक होते हैं कि वे सुगमता से अपने खराब मूड से बाहर नहीं निकल पाते। इसके लिए कई बार उन्हें ऐसी औषधियां लेनी पड़ती हैं, जो कुछ देर के लिए तो उन्हें इस हताश मानसिकता से बाहर निकाल देती हैं, लेकिन इन औषधियों के दुष्परिणाम भी कम नहीं होते। इसलिए बेहतर यही है कि अपनी मानसिक दशा को इतना सबल बनाएं कि नकारात्मक दृष्टिकोण आपको गिरफ्तार न कर सकें और अगर कर ही लें तो आपको उनसे बाहर निकलने के उपाय भी पता होने चाहिए। यहां हम आपको दे रहें ऐसे ही कुछ टिप्स -

 

दही दूर कर सकता है अपके पैरों का फंगल इंफेक्शन

दही दूर कर सकता है अपके पैरों का फंगल इंफेक्शन

फंगल इंफैक्शन एक प्रकार की स्किन एलर्जी होती है जो हमारी बॉडी के किसी भी हिस्से पर कभी भी हो सकती है। पर अक्सर फंगल इन्फेक्शन की समस्या पैरो की उंगलियों में ही होती है, फंगल इन्फेक्शन होने पर पैरों की उंगलियों की स्किन में लाल पपड़ी जैसे दाग हो जाते है जिनमे बहुत खुलजी, रैशेज और दर्द होती है। कभी कभी फंगल इन्फेक्शन के कारण पैरों में सूजन और नाखुनों का पीलापन भी आ जाता है। फंगल इंफैक्शन होने का कारण पसीना आना, एंटीबॉयोटिक दवाओं के साइड इफैक्ट्स, साफ सफाई न रखना, शरीर में गर्मी, अधिक देर तक पैरों का गीला रहना और ब्लड सर्कुलेशन की कमी भी हो सकता है, पर आज हम आपको एक ऐसा उपाय बताने जा रहे है जि

Pages