आयर्वेद में बुखार और दर्द का क्या इलाज है?

स्वास्थ्य एवं पोषण संबंधित सभी प्रकार के प्रश्नों के लिए आप हमसे संपर्क  कर सकते हैं

स्वास्थ्य सम्बंधित समस्या के लिए फार्म भरें .

या 

WhatsApp No 6396209559  या

हमें फ़ोन काल करें 6396209559

 

आयर्वेद में बुखार और दर्द का क्या इलाज है?

आयर्वेद में चिकनगुनिया फीवर का जिक्र नहीं है, लेकिन इसी से मिलते-जुलते संधि ज्वर का जिक्र है, जिसके लक्षण बुखार, जोड़ों में दर्द और सूजन आदि हैं।
- गिलोय (गुडुची या अमृता) का सेवन करें। बेल से रस निकालकर दिन में 2 बार (5-10 ML) करीब एक-एक टी-स्पून लें। इसके कैप्सूल भी आते हैं। 500 Mg का एक-एक दिन में दो बार कैप्सूल ले सकते हैं।
- तुलसी के 7-8 पत्तों को गर्म पानी, चाय या दूध में उबालकर दिन में दो-तीन बार लें। तुलसी कैप्सूल लेना है तो 500 Mg का दिन में दो बार लें।
- सौंठ शहद में मिलाकर ले सकते हैं, 5-5 ग्राम सुबह और शाम।
- हल्दी वाला दूध सुबह-शाम लें। हल्दी को दूध के साथ उबालें, फिर पिएं।
- अश्वगंधा, आंवला या मुलहठी को किसी भी रूप में खाएं। तीनों में से एक कोई लें।
- दशमूल क्वाथ, रासनादि क्लाथ, पंचतिक्त क्वाथ में से कोई एक 12-15 ML सुबह-शाम, खाली पेट लें।
- सुदर्शन घनवटि, योगराज गुग्गुल या आयोग्यवर्धिनी वटी में से कोई 500 Mg से 1 ग्राम तक रोजाना दिन में दो बार लें।
- गुनगुना पानी लें तो बेहतर है।

नोटः ये सारी चीजें दर्द से तो राहत दिलाती ही हैं, बुखार भी ठीक करती हैं। जब तक तबियत ठीक न हों, नियमित रूप से लेते रहें।