आयरन चाहिए तो पोहा खाइए

स्वास्थ्य एवं पोषण संबंधित सभी प्रकार के प्रश्नों के लिए आप हमसे संपर्क  कर सकते हैं

स्वास्थ्य सम्बंधित समस्या के लिए फार्म भरें .

या 

WhatsApp No 6396209559  या

हमें फ़ोन काल करें 6396209559

 

भारत सहित दुनिया भर में एनीमिया पीडितों की संख्या कुछ वर्षो में तेजी से बढ़ी है।

बदलती जीवनशैली के साथ आहार संबंधी आदतों में होने वाला बदलाव इस समस्या के मुख्य कारण के रूप में सामने आ रहा है।

हमारे शरीर को हेल्दी और फिट रहने के लिए अन्य पोषक तत्वों के साथ-साथ आयरन की भी जरूरत होती है। आयरन ही हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है। ये कोशिकाएं ही शरीर में हीमोग्लोबिन बनाने का काम करती हैं।

हीमोग्लोबिन फेफड़ों से ऑक्सीजन लेकर रक्त में ऑक्सीजन पहुंचाता है। इसलिए आयरन की कमी से शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी हो जाती है और हीमोग्लोबिन कम होने से शरीर में ऑक्सीजन की कमी होने लगती है। इसकी वजह से कमजोरी और थकान महसूस होती है, इसी स्थिति को एनीमिया कहते हैं।

शरीर के रक्त में हीमोग्लोबिन की कमी से होने वाला रोग एनीमिया ऎसी समस्या है, जिसकी अधिकांश महिलाएं शिकार होती हैं। गर्भवती महिलाओं में एनीमिया का प्रभाव अधिक पाया जाता है। गर्भावस्था के दौरान शरीर को अधिक मात्रा में विटामिन, मिनरल व फाइबर आदि की जरूरत होती है। रक्त में लौह तत्वों की कमी होने से शारीरिक दुर्बलता बढ़ती है। 

आयरन और खून की कमी को दूर करने के लिए डॉक्टर्स कई तरह उपचार बताते हैं या खाने में ऎसी चीजें खाने की सलाह देते हैं जिनमें आयरन भरपूर मात्रा में हो।

यहां हम आपको ऎसे ही आयरन युक्त बे्रकफास्ट के बारे में बता रहे हैं जीसे रोज खाने से आपके शरीर में आयरन की नही होगी और खून की कमी भी दूर हो जाएगी।

एक बाउल पोहा खाने से आपको इन परेशानियों से छुटकारा पाने में मदद होगी। पोहा खाना स्तनपान कराने वाली महिलाओं और गर्भवती महिलांओं के लिए सबसे लाभदायक होता है क्योंकि इस समय उन्हें आयरन की सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है।

पोहा पेसिंग राइस से बनता है और इसे आयरन का एक बेहतर स्त्रोत माना गया है। पोहे को और अधिक पौष्टिक बनाने के लिए इसमें नींबू का रस और मौसमी सब्जियां मिलाकर भी बनाया जा सकता है।