विज्ञान एवं तकनीकी समाचार

Subscribe to विज्ञान एवं तकनीकी समाचार feed
Updated: 6 hours 48 min ago

क्‍या जीवनसीमा का पूण विकास हो चुका है

11 July, 2017 - 03:29

चुनौतियां सिद्धांतों का कहना है कि मानव जीवन काल एक सीमा तक पहुंच रहा है, शोधकर्ताओं ने पाया है कि अभी कोई भी प्रमाण नहीं मिला है कि मानव जीवन की सीमा बढ़ना बंद हो गई है। इस बारे में कुछ भी निश्चित नहीं कहा जा सकता है।

पिछले अध्ययनों में शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला है कि मानव उम्र की उच्‍चतम सीमा करीब 115 वर्ष है।

हालांकि, नेचर जर्नल में प्रकाशित हुए नए अध्‍ययन में, एक निष्‍कर्ष निकला था कि ऐसी कोई लिमिट निर्धारित नहीं किया गया है।

स्मार्टफ़ोन है तो लिखने की ज़रुरत नहीं

24 June, 2017 - 22:47

स्मार्टफ़ोन है तो लिखने की ज़रुरत नहीं
किसी भी जगह अगर कुछ लिखना है तो उसके लिए अब कॉपी और कलम नहीं चाहिए.
एंड्राइड स्मार्टफोन पर गूगल कीप किसी के भी काम आ सकता है.
डिजिटल दुनिया में किसी भी बात को याद रखने का ये सबसे आसान तरीका है.
गूगल कीप इस्तेमाल करना बहुत आसान है. अपनी आवाज़ में कोई भी बात रिकॉर्ड कर लीजिये और फिर, अगर आप चाहें, तो वो खुद ही लिखे हुए शब्द में ट्रांसक्राइब हो जाएगा.
अपनी आवाज़ में कुछ भी रिकॉर्ड करने के लिए होम स्क्रीन पर 'गूगल नाउ' का इस्तेमाल कीजिये और 'माइक' को क्लिक करके रिकॉर्डिंग शुरू कर दीजिये.

केंद्र -जम्मू-कश्मीर में खुलेंगे 2 एम्स

24 June, 2017 - 22:47

श्रीनगर। जम्मू एवं कश्मीर सरकार ने गुरुवार को कहा कि केंद्र सरकार ने राज्य में दो अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) खोलने की मंजूरी दे दी है। राज्य विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) विधायक राजीव जसरोटिया के सवाल का जवाब देते हुए स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा मंत्री बाली भगत ने कहा कि राज्य सरकार को पिछले महीने इस मंजूरी की जानकारी मिली।
भगत ने कहा कि राज्य सरकार ने दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के अवंतीपुरा और जम्मू क्षेत्र के सांबा जिले में एम्स के लिए जगह दे दी है।

बारिश के लिए है आपका स्मार्टफोन?

24 June, 2017 - 22:47

आजकल कुछ महंगे और सस्ते स्मार्टफोन के विज्ञापन वाटर रेसिस्टेंट और वाटर प्रूफ कह कर बेचे जा रहे हैं.

एक टेलीविज़न विज्ञापन में तो स्मार्टफोन पानी में गिर जाता है और उसके बाद उसे उठा कर बातचीत आगे बढ़ा दी जाती है.

बारिश का मौसम है इसलिए ये समझना ज़रूरी है कि वाटर रेसिस्टेंट और वाटर प्रूफ के नाम से बिकने वाले स्मार्टफोन से आपको क्या उम्मीद करनी चाहिए.

अगर आप पानी में डूबने से ख़राब नहीं होने वाले स्मार्टफोन का इंतज़ार कर रहे थे तो वो इंतज़ार अभी काफी लंबा हो सकता है, क्योंकि कोई भी आम इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस वाटर प्रूफ नहीं होता है. स्मार्टफोन भी नहीं.

इस साल विज्ञान की सबसे बड़ी खोज

24 June, 2017 - 22:47

आसमान में आग

अंतरिक्ष पर नज़र रखने वाले वैज्ञानिकों ने 15 फ़रवरी को एक छोटे से ग्रह को धरती के क़रीब आते देखा.

मगर इसके सुरक्षित गुज़रने के बाद दस हज़ार टन की एक अंतरिक्षीय चट्टान रूस के चेल्याविंस्क के ऊपर आसमान में जलकर राख हो गई. हालांकि उसके अवशेषों के ज़मीन पर गिरने से क़रीब एक हज़ार लोग घायल हो गए और आस-पास की कई इमारतों को नुकसान पहुंचा.

इस असाधारण घटना ने वैज्ञानिकों को क्षुद्र ग्रह के 'हमले' का अध्ययन करने का दुर्लभ संयोग दिया. इस जांच के लिए गाड़ियों के डैशबोर्ड पर लगे कैमरों को धन्यवाद देना चाहिए.

घर जो खुद करेगा ढेरों काम

21 June, 2017 - 11:56

सोचिए, आपका घर खुद ब खुद साफ हो जाए। कपड़े धुल जाएं और सूख जाएं। घर का सारा सामान खुद ब खुद व्‍यवस्थित हो जाए। क्‍या ऐसा हो सकता है। हो सकता है कि आपके मन में यह सवाल उठ रहा हो कि यह सब काम कौन करेगा।

यदि इन सब कामों को घर खुद ही कर ले तो। जी हां, तकनीकी उन्‍नतिकरण के जिस युग में हम जी रहे हैं उसमें अगले कुछ वर्षों में यह संभव होने वाला है। 15 वर्ष बाद आपका घर स्‍मार्ट हाउस बन सकेगा और ऊपर बताए हुए सारे काम खुद ही कर लेगा।

साल 2030 इन सब कामों को करने के लिए आपके पास सोशल मीडिया शॉवर कर्टन, स्‍मार्ट स्‍केल, मैजिक मिरर और हर कमरे के लिए एक स्‍मार्ट गैजेट होगा।

दक्षिण अफ़्रीका: मानव जैसी प्रजाति की खोज

21 June, 2017 - 06:00

दक्षिण अफ़्रीका में वैज्ञानिकों ने गुफ़ाओं में बनी क़ब्रों में मानव जैसी नई प्रजाति खोजी है.

वैज्ञानिकों ने 15 आंशिक कंकाल पाए गए हैं जिसे अफ़्रीका में इस तरह की अब तक की सबसे बड़ी खोज बताया जा रहा है.

शोधकर्ताओं का दावा है कि ये खोज हमारे पूर्वजों के बारे में अब तक की हमारी सोच को ही बदल देगी.

भूकंप और सुनामी की चेतावनी देने वाला नया उपकरण

21 June, 2017 - 02:56

वैज्ञानिकों ने भूकंप या सुनामी के खतरे की पहले से चेतावनी देने वाला एक उपकरण तैयार किया है जिसका नाम "द ब्रिंको" रखा गया है। इसकी सुविधा मोबाइल एप के रूप में भी उपलब्ध है।

खास बात यह है कि द ब्रिंको अंतरराष्ट्रीय सीस्मिक नेटवर्क से जुड़ा होता है और क्षेत्र में भूकंप या सुनामी का खतरा होने पर यह बोलकर, फ्लैश लाइट और अलार्म के जरिये चेतावनी देता है।

धातु निर्मित सिलेंडरनुमा इस उपकरण में प्राकृतिक आपदाओं को मापने वाला मॉनीटरिग सिस्टम लगा होता है। भूकंप की चेतावनी यह पांच-दस या तीस मिनट पहले देता है, लेकिन सुनामी के बारे में घंटों पहले चेतावनी देता है।

व्हाट्सऐप बना सिर दर्द मोबाइल कंपनियों के लिए

20 June, 2017 - 22:48

हर महीने व्हाट्सऐप को 100 करोड़ से भी ज़्यादा लोग इस्तेमाल करते हैं.
दुनिया का ये सबसे पसंदीदा मेसेजिंग सर्विस है और टेलीकॉम कंपनियों के लिए ख़ासा सिर दर्द बन गया है.
सभी उम्र के लोगों के बीच ये काफी पसंद किया जाता है और इसीलिए दुनिया भर में इसकी धूम है.
53 भाषाओँ और 109 देशों में काम करने वाले व्हाट्सऐप पर आजकल हर दिन औसतन 42 सौ करोड़ मैसेज भेजे जाते हैं. यह संख्या तेज़ी से बढ़ रही है.

हिमालय में आ सकता है एम 8 तीव्रता का भूकंप

20 June, 2017 - 22:48

हिमालय रेंज में जनवरी 2016 में एम 8 तीव्रता का भूकंप आने की संभावना है। रूस के वैज्ञानिक वी. कोस्वोकोव ने यह भविष्यवाणी की है। हालांकी इस भविष्यवाणी में भूकंप का केन्द्र के बारे में कोई खुलासा नहीं किया है। रूसी वैज्ञानिक की इस चेतावनी के बाद राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण हिमालय के साथ लगे राज्यों हिमाचल, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा व जम्मू कश्मीर की सरकारों को कई माह पहले ही पत्र लिखकर आगाह कर चुका है।

कैसा है बिना बैटरी वाला कैमरा जाने यहां

20 June, 2017 - 22:48

डिजनी रिसर्च एवं यूनिवर्सिटी ऑफ वॉशिंगटन के वैज्ञानिकों ने बताया है कि ऊर्जा-संरक्षित कैमरों से युक्त संवेदी नोडों का एक नेटवर्क, अपने विषय से प्राप्त संकेतों को सूंघकर स्वतः ही हर कैमरे के पोज अर्थात् उसका रुख निश्चित कर सकता है। ऐसे नेटवर्क ‘इंटरनेट ऑफ थिंग्स' (आईओटी) का ही भाग हो सकते हैं, जिससे जानकारियों का आदान-प्रदान हो सकता है। 

प्लूटो से छिन गया ग्रह का दर्जा

4 June, 2017 - 10:44

नासा ने जब मिशन 'न्यू होराइजन्स' रवाना किया था, उस समय प्लूटो को सोलर सिस्टम (सौरमंडल) के नौंवे ग्रह का दर्जा हासिल था। इस मिशन के लिए स्पेसक्राफ्ट के रवाना होने के कुछ महीने बाद ही नए पिंडों की खोज को मान्यता देने और उन्हें नाम देने वाली अंतरराष्ट्रीय एजेंसी इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉमिकल यूनियन ने पहली बार ग्रहों की परिभाषा तय करने पर बहस छेड़ दी। इसके बाद प्लूटो से ग्रह का दर्जा छीन गया और इसकी पहचान क्वीपर बेल्ट के मलबे के ढेर में मौजूद एक बौने ग्रह की रह गई। अब इसे आधिकारिक तौर पर 'एस्ट्रॉएड नंबर 134340' से जाना जाता है।

टीवी को पीसी में बदल देगा ‘आइबॉल स्‍प्‍लेंडो'

14 May, 2017 - 01:39

पीसी-ऑन-ए-स्‍टिक डिवाइसेज की तरह आइबॉल स्‍पलेंडो पॉकेट में फिट हो सकता है। यह इंटेल एटम क्‍वाड-कोर प्रोसेसर व 2जीबी रैम के साथ विंडोज 8.1 पर चलता है। यह इंटेल एचडी ग्राफिक्‍स को सपोर्ट करता है। इसमें 32 जीबी की इंटरनल मेमोरी है जो माइक्रोएसडी कार्ड के सहारे बढ़ायी जा सकती है।

इस डिवाइस को केवल टीवी के एचडीएमआई इनपुट में प्‍लग इन करने की जरूरत है और फिर आप विंडोज पीसी का आनंद आराम से ले सकेंगे। इसमें एचडी ग्राफिक्‍स, मल्‍टी-चैनल डिजिटल ऑडियो, माइक्रोएसडी कार्ड स्‍लॉट, रेग्‍युलर यूएसबी पोर्ट, माइक्रो-यूएसबी पोर्ट, वाइ-फाइ और ब्‍लूटूथ 4.0 है।

अब आपके स्मार्टफोन की टूटी स्क्रीन खुद हो जाएगी ठीक!

14 May, 2017 - 01:39

आपने अभी एक महंगा और बेस्ट फीचर्स से लैस फोन लिया, पर ये क्या इसकी स्क्रीन टूट गई जबकि आपने तो स्क्रीन सेवर भी लगवाया था। अब आपके पास क्या विकल्प है या तो और रुपया खर्च करके इसकी नई स्क्रीन लगवाएं या फिर दोबारा नया फोन खरीदें क्योंकि नई स्क्रीन के खर्चे से कम में तो आपको नया फोन ही मिल जाएगा।

दोनों ही सूरतों में आपका फोन तो गया काम से, कुछ ऐसा ही सोचकर परेशान हो जाते हैं न आप! लेकिन परेशान होने की कोई जरूरत नहीं। तकनीक के पास इसका भी इलाज मौजूद है। वैज्ञानिक जल्द ही ऐसी तकनीक डेवलप कर रहे हैं, जिसकी मदद से स्मार्टफोन की बाहरी स्क्रीन टूटने पर खुद से रिपेयर हो जाएंगी।

सेल्‍फी ड्रोन कैमरा के बारे में जाने

14 May, 2017 - 01:39

सेल्‍फी क्लिक करने के शौकीन लोगों के लिए सेल्‍फी ड्रोन कैमरा बनाया गया है। लिली नाम का यह ड्रोन कैमरा जीपीएस तकनीक युक्‍त है और यह आपकी हर कमांड को फॉलो करेगा। इतना ही नहीं, यह आपके निर्देशों की डॉक्‍यूमेंट फाइल भी बनाएगा। 

इस सेल्‍फी ड्रोन कैमरे में 1080 पिक्‍सल का 12 मेगापिक्‍सल वीडियो कैमरा लगा है, जो 25 मील प्रति घंटा की स्‍पीड से 100 फीट की ऊंचाई तक उड़ने में सक्षम है।

लिली को प्री-ऑर्डर के आधार ही बिक्री के लिए उपलब्‍ध कराया जा रहा है। इसकी कीमत 999 डॉलर रखी गई है लेकिन ट्रायल के तौर पर इसे आधी कीमत पर बेचा जा रहा है।

वैज्ञानिकों की नई खोज, धरती पर सबसे पहले आया ये जीव!

28 April, 2017 - 07:26

अगर आपसे पूछा जाए कि सबसे पहले धरती पर आने वाले जीवधारियों में कौन है, तो आप सही-सही नहीं बता पाएंगे। पर वैज्ञानिकों ने अब दावा किया है कि धरती पर मछलियां सबसे पहले आईं। वो भी 409 मिलियन साल पहले। खास बात ये है कि वैज्ञानिकों को उसके अवशेष मिले हैं। ये मछली आधे फुट लंबी थी और धरती पर झील में आई थी।

वैज्ञानिकों के समूह ने साइंस एडवांस जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट में बताया है कि धरती पर आने वाली पहली मछलियों के समूह में से एक का जीवाश्म भी मिला है। इसकी हड्डियों में रीढ़ की हड्डियां मिली हैं।

घूमने का शौक है और पैसे हैं तो अब चांद की कर आएं सैर!

28 April, 2017 - 06:25

घूमने-फिरने के शौकीन हैं तो चांद की सैर करने का आइडिया आपको कैसा लग रहा है? दो विदेशियों को तो ये आइडिया इतना पसंद आया है कि उन्होंने 2018 में चांद की सैर के लिए अमेरिका की प्राइवेट रॉकेट कंपनी स्पेस एक्स को पैसे भी दे दिए हैं.

आपको आपका पार्टनर चांद के पार ले जाए या नहीं, चांद की सैर पर जरूर ले जा सकता है. क्योंकि चांद की सैर को मुमकिन बना रही है एलन मस्क की कंपनी स्पेस एक्स. स्पेस एक्स को दो विदेशी सैलानियों ने चांद पर जाने के लिए एक मोटी रकम दी है.

नासा ने अंतरिक्ष में उगाई बंद गोभी!

28 April, 2017 - 06:24

अंतरिक्षयात्रियों ने लगभग एक महीने तक कोशिश करने के बाद अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र में चीनी बंदगोभी उगाई. नासा के अनुसार अंतरिक्षयात्री पेगी विटसन ने जापान की ‘तोक्यो बेकाना’ नामक चीनी गोभी उगाई.

अंतरिक्ष केंद्र के अंतरिक्षयात्रियों को इनमें से कुछ गोभी खाने के लिए मिलेंगी और बाकी नासा के केनेडी अंतरिक्ष केंद्र में वैज्ञानिक अध्ययन के लिए सुरक्षित कर लिया जाएगा.

यह अंतरिक्ष केंद्र में उगाई जाने वाली पांचवी फसल होगी अैर पहली चीनी गोभी. चीनी गोभी का चुनाव अनेक पत्तेदार सब्जियों के आकलन के बाद किया गया.

भारतवर्ष का नाम “भारतवर्ष” कैसे पड़ा?

8 April, 2017 - 09:00

भारतवर्ष का नाम “भारतवर्ष” कैसे पड़ा?
हमारे लिए यह जानना बहुत ही आवश्यक है
भारतवर्ष का नाम भारतवर्ष कैसे पड़ा? एक सामान्य जनधारणा है
कि महाभारत एक कुरूवंश में राजा दुष्यंत और
उनकी पत्नी शकुंतला के
प्रतापी पुत्र भरत के नाम पर इस देश का नाम भारतवर्ष
पड़ा। लेकिन वही पुराण इससे अलग कुछ
दूसरी साक्षी प्रस्तुत करता है। इस ओर
हमारा ध्यान नही गया, जबकि पुराणों में इतिहास ढूंढ़कर
अपने इतिहास के साथ और अपने आगत के साथ न्याय करना हमारे
लिए बहुत ही आवश्यक था। तनक विचार करें इस
विषय पर:-आज के वैज्ञानिक इस बात को मानते हैं

ख़तरनाक सुपरबग की सूची जारी

3 April, 2017 - 06:00

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ऐसे बैक्टीरिया की सूची तैयार की है जिन पर दवाइयों का असर नहीं हो रहा है. इन्हें मानव स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़ा ख़तरा माना जा रहा है.

इस सूची में सबसे ऊपर ई. कोली जैसे ग्राम-नेगेटिव बग हैं जो अस्पताल में भर्ती कमज़ोर मरीज़ों के ख़ून में जानलेवा संक्रमण या नमोनिया फैला सकते हैं.

जर्मनी में होने वाली जी-20 बैठक से पहले इस सूची पर चर्चा की जाएगी.

इसका मकसद सरकारों का ध्यान मुश्किल इलाज वाले संक्रमणों के लिए एंटीबायोटिक खोजने की ओर केंद्रित करना है.

Pages