पहचानें डिप्रेशन के लक्षण

पहचानें डिप्रेशन के लक्षण

आइए हमारे व्यवहार में आनेवाले उन बदलावों पर नज़र डालते हैं, जो बताते हैं कि हम डिप्रेशन यानी अवसाद का शिकार बनते जा रहे हैं. डिप्रेशन से उबरने के लिए इसके लक्षणों और संकेतों को समझना बहुत ज़रूरी है. क्योंकि हम इस बारे में तभी मदद मांग सकते हैं, यदि हमें सही समय पर पता चल सकेगा कि हमारी ज़िंदगी में सबकुछ सही नहीं चल रहा है. ये हैं डिप्रेशन के कुछ लक्षण: 
 ‌
* ठीक से नींद न आना
* कम भूख लगना
* अपराध बोध होना
* हर समय उदास रहना 
* आत्मविश्वास में कमी

हर 4 में से 1 भारतीय बच्चे को है डिप्रेशन!

हर 4 में से 1 भारतीय बच्चे को है डिप्रेशन!

आज विश्व स्वास्थ्य दिवस यानी वर्ल्ड हेल्थ डे है. विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO की स्थापना के उपलक्ष्य में हर साल 7 अप्रैल को मनाए जानेवाले इस दिन हर वर्ष स्वास्थ्य से संबंधित एक थीम का चयन किया जाता है. इस साल वर्ल्ड हेल्थ डे की थीम है डिप्रेशन. प्रस्तुत हैं डिप्रेशन से संबंधित WHO की ताज़ा रिपोर्ट की ख़ास बातें.  

पेट कम करना सबसे चुनौतीपूर्ण है इसलिए

पेट कम करना सबसे चुनौतीपूर्ण है इसलिए

शरीर का वज़न घटाना एक बार के लिए आसान भी हो सकता है, लेकिन पेट कम करना सबसे चुनौतीपूर्ण है इसलिए ही हम आपको पेट कम करने के 5 आसान से टिप्स दे रहे हैं.

प्रोटीन का सेवन करें: हम सभी को शाम 4 बजे के आसपास तेज़ भूख लगती है. उस समय भूख मिटाने के लिए आलू के चिप्स खाने से परहेज़ करें. इसके बजाय प्रोटीन बार, लो फ़ैट चीज़ या थोड़े-से बादाम का सेवन करें. ऐसे खाद्य पदार्थ मेटाबॉलिज़्म बढ़ाने में मदद करते हैं.

साइकिल चलाने के चमत्कारी फ़ायदे

साइकिल चलाने के 7 फ़ायदे

यदि आप वज़न घटाने की कोशिशों में लगे हुए हैं तो हमारी सलाह पर एक बार साइक्लिंग करके देखें. जल्द ही आप अपनी जान-पहचान के सबसे फ़िट लोगों में शुमार हो जाएंगे. 
आइए जानते हैं नियमित रूप से साइकिल चलाने के 7 फ़ायदे 

1. रोगप्रतिरोधक क्षमता होगी स्ट्रॉन्ग 
नियमित रूप से साइक्लिंग करने से इम्यून सिस्टम मज़बूत बनता है. यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैरोलाइना में एक रिसर्च के बाद पाया गया कि जो लोग सप्ताह में कम से कम पांच दिन आधा घंटा साइकिल चलाते हैं, उनके बीमार पड़ने की संभावना 50 प्रतिशत तक कम हो जाती है. 

सोने के समय ये करें || ये बिल्कुल न करें

सोने के समय ये करें || ये बिल्कुल न करें

हल्के-फुल्के बदलाव आपको हर रोज़ अच्छी नींद देंगे
* अपनी जीवनशैली के लिए उपयुक्त सोने और उठने का समय निर्धारित करें और हर रोज़ उसी का पालन करें. यहां तक कि सप्ताहांत में भी. आठ घंटे की नींद ज़रूर पूरी करें. 
* दिन में सोए नहीं. अपनी नींद की समय सारणी के अनुसार ही काम करें.
* सोने से 3 से 6 घंटे पहले वर्कआउट करें. दिन में हल्की-फुल्की एक्सरसाइज़ करें.
* सोने से कम से कम दो घंटे पहले डिनर करें. यदि आपको देर रात भूख लगी हो और आपको अपचन की समस्या न हो तो आप कार्बोहाइड्रेट समृद्ध भोजन कर सकती हैं. कम-शुगर वाले सिरीयल्स या केला सबसे बेहतरीन हैं.

Pages