स्वास्थ्य एवं पोषण संबंधित सभी प्रकार के प्रश्नों के लिए आप हमसे संपर्क  कर सकते हैं

स्वास्थ्य सम्बंधित समस्या के लिए फार्म भरें .

या 

WhatsApp No 6396209559  या

हमें फ़ोन काल करें 6396209559

 

नाक के रोग:

नाक के रोग:

नजले या जुकाम के साथ-साथ अगर लगातार छींके भी आ रही हो तो 3 ग्राम अदरक को 6 ग्राम गुड़ के साथ मिलाकर रात को सोने से पहले खाने से छींके बंद हो जाती हैं। इसके ऊपर से पानी नहीं पीना चाहिए।
अदरक के रस को पान के पत्ते के रस के साथ मिलाकर सुबह और शाम पीने से और पान के पत्ते के ऊपर एरंड का तेल लगाकर गर्म करके छाती पर बांधने से सर्दी-खांसी में आराम आता है।

पेचिश (नई या पुरानी)

पेचिश (नई या पुरानी)

स्वच्छ सौंफ ३०० ग्राम और मिश्री ३०० ग्राम लें। सौंफ के दो बराबर हिस्से कर लें। एक हिस्सा तवे पर भून लें। भुनी हुई और बची हुई सौंफ लेकर बारीक पीस लें और उतनी ही मिश्री (पिसी हुई) मिला लें। इस चूर्ण को छः ग्राम (दो चम्मच) की मात्रा से दिन में चार बार खायें। ऊपर से दो घूँट पानी पी सकते हैं। आंवयुक्त पेचिश - नयी या पुरानी (मरोड़ देकर थोडा-थोडा मल तथा आंव आना) के लिए रामबाण है। सौंफ खाने से बस्ती-शूल या पीड़ा सहित आंव आना मिटता है।

दही, भात, मिश्री के साथ खाने से आंव-मरोड़ी के दस्तों में आराम आता है।

WATER THERAPY कैसे करती है फायदा

WATER THERAPY

Water therapy क्या है ? इसके क्या फायदे हैं ?  जी ! Water therapy एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें आप बिना कोई डाइटिंग किए, बिना वर्कआउट किए अपना वज़न कम करते हैं, अपने शरीर को स्वस्थ रख सकते है..
1. सुबह उठने के बाद बिना कुछ खाए आप 1 लीटर पानी पी लें। इससे आपका पेट एकदम साफ होगा। अनावश्यक चीजें आपके शरीर से बाहर निकल जाएगी।
2. खाना खाने से 45 मिनट पहले एक या दो ग्लास पानी पियें। इससे आपकी भूख कम हो जाएगी और आप को कम खाने की जरूरत होगी।

अंकुरित दानों का सेवन केवल

अंकुरित दानों का सेवन केवल

 सुबह नाश्ते के समय ही करना चाहिये।  अंकुरित आहार शरीर को नवजीवन देने वाला अमृतमय आहार कहा गया है।
अंकुरित भोजन क्लोरोफिल, विटामिन (`ए´, `बी´, `सी´, `डी´ और `के´) कैल्शियम, फास्फोरस, पोटैशियम, मैगनीशियम, आयरन, जैसे खनिजों का अच्छा स्रोत होता है।
अंकुरीकरण की प्रक्रिया में अनाज/दालों में पाए जाने वाले कार्बोहाइट्रेड व प्रोटीन और अधिक सुपाच्य हो जाते हैं।

पेनकिलर स्प्रे या जेल लगाएं या नहीं?

पेनकिलर स्प्रे या जेल लगाएं या नहीं?

दर्द होने पर पेनकिलर स्प्रे या जेल लगा सकते हैं। ध्यान रखें कि वॉटर बेस्ड स्प्रे जल्दी शरीर में जज्ब होते हैं। ये पेनकिलर हैं और दर्द के अलावा सूजन भी कम करते हैं। आयोडेक्स भी लगा सकते हैं।कुछ एक्सपर्ट मानते हैं कि डिक्लोफिनैक सोडियम (Diclofenac Sodium) वाले जेल उम्रदराज लोगों के लिए सेफ नहीं हैं। ये मार्कट में वोविरॉन (Voveron), डोलो (Dolo), वोलिनी (Volini) आदि नाम से मिलते हैं।बुजुर्गों को पैरासिटामोल (Paracetamol) या ट्रामाडोल (Tramadol) देने की सलाह दी जाती है। ट्रामाडोल अल्ट्रासेट (Ultracet), एक्युपेन (Acupain), डोमाडोल (Domadol) आदि नाम से मिलता है। जेल या स्प्रे दिन में 2-3 बार लगा स

Pages