स्वास्थ्य एवं पोषण संबंधित सभी प्रकार के प्रश्नों के लिए आप हमसे संपर्क  कर सकते हैं

WhatsApp No 6396209559  या

हमें फ़ोन काल करें 6396209559

पाउच वाला पानी अमृत नहीं जहर है

पाउच वाला पानी अमृत नहीं जहर है

तपिश भरी गर्मी में हर किसी को दो बूंद पानी की दरकार होती है। सूखते कंठ की प्यास बुझाने के लिए इन दिनों पानी के पाउच और बोतलों की बिक्री में खासा इजाफा हो रहा है। पानी पाउच के कारोबारी इन दिनों पानी की गुणवत्ता और मानकों का भी ध्यान नहीं रख रहे हैं। सार्वजनिक स्थलों, चौराहों और बस स्टैंडों पर इन पाउचों की भारी खपत हो रही है।
दो रुपये में मिलने वाला पानी का पाउच लोगों की प्यास बुझाने के नाम पर बीमारियां परोस रहा है।पाउच वाला पानी पीने का सीधा असर सेहत पर पड़ता है। इसलिए इस पानी को पीने से बचना चाहिए। 

1. पाउच वाले पानी के नुकसान :

मुहांसे ठीक करने के हर्बल उपाय

मुहांसे ठीक करने के 10 हर्बल उपाय

किशोरों में अपने लुक्स को लेकर आजकल कुछ ज्यादा ही जागरूकता आ गई है। उन्हें अपनी त्वचा और चेहरे की सुंदरता को लेकर बड़ी चिंता बनी रहती है। किशोरावस्था के दौरान तेजी से होने वाले हॉर्मोनल परिवर्तन के कारण चेहरे तथा त्वचा संबंधित समस्याएं पैदा होती हैं। इस दौरान होने वाली प्रमुख समस्याओं में से एक मुहांसे भी हैं। मुहांसों से निपटने के लिए किशोर बाजार में उपलब्ध तमाम क्रीम और दवाओं का इस्तमाल करते हैं और जब परिणाम संतोषजनक नहीं मिलते तो मानसिक तनाव के शिकार हो जाते हैं। मुहांसों की वजह से चेहरा बदसूरत लगता है। इससे उनमें आत्मविश्वास की कमी हो जाती है। इस वजह से वे खुद को अपनी मित्र मंडली से दूर

प्याज के बड़े फायदे कि आप डॉक्टर भूल जायेंगे

प्याज के बड़े फायदे

प्याज़ एक वनस्पति है जिसका कन्द सब्ज़ी के रूप में प्रयोग किया जाता है। भारत में महाराष्ट्र में प्याज़ की खेती सबसे ज्यादा होती है। यहाँ साल मे दो बार प्याज़ की फ़सल होती है - एक नवम्बर में और दूसरी मई के महीने के क़रीब होती है। प्याज़ भारत से कई देशों में निर्यात होता है, जैसे कि नेपाल, पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश, इत्यादि।  प्याज के फायदे इतने हैं कि आपको एक ही बार में बताया नहीं जा सकता है.

एड्स क्या है?

एड्स क्या है?

एड्स एचआईवी वायरस के कारण होने वाली एक बीमारी है| 4 यह तब होता है जब व्यक्ति का इम्यून सिस्टम इंफेक्शन से लड़ने में कमज़ोर पड़ जाता है और तब विकसित होता है जब एचआईवी इंफेक्शन बहुत अधिक बढ़ जाता है| यह एचआईवी इंफेक्शन का अंतिम चरण होता है जब शरीर स्वयं की रक्षा नहीं कर पाता और शरीर में कई प्रकार की बीमारियाँ, संक्रमण हो जाते हैं जिनका उपचार न होने पर मृत्यु तक हो सकती है|

सीताफल से उग आएंगे सिर के उड़े हुए बाल

सीताफल से उग आएंगे सिर के उड़े हुए बाल

सीताफल न केवल एक अच्छा फल है बल्कि अपनी बहुत सारी खूबियों के साथ यह हमारी सेहत के लिए कमाल का होता है सीताफल इतने गुणों से भरपूर है कि शायद ही शरीर का कोई हिस्सा ऐसा हो जिसे यह फायदा न पहुंचाता हो। क्योंकि सीताफल शरीर की कमजोरी के लिए दूर करने के लिए सीताफल एक अच्चा विकल्प हो सकता है और साथ ही रोगप्रतिरोधक क्षमता को कैसे बढाता है हम आपको सीताफल के गुणों के बारे में बताते हैं 

Pages