ब्लड प्रेशर को कैसे रखें नियंत्रित

ब्लड प्रेशर को कैसे रखें नियंत्रित

उच्च रक्तचाप को काबू में करने के लिए हमें अपने डॉक्टर की सलाह अनुसार नियमित दवा लेनी चाहिए। दवा लेने के साथ-साथ हमें कुछ विशेष बातों का ख्याल भी रखना चाहिए जिससे की दवा की मात्रा कम रहे और शरीर के अन्य उपयोगी अंग जैसे की गुर्दे / Kidney, यकृत / Liver, ह्रदय / Heart और रक्त वाहिनियों पर होनेवाले side effects से बचा जा सके।उच्च रक्तचाप या Hypertension, जिसे हम बोलचाल की भाषा में High BP भी कहते हैं यह एक ज्वालामुखी की तरह हैं। उच्च रक्तचाप से पीड़ित व्यक्ति को काफी समय तक कोई लक्षण नजर नहीं आता हैं। ज्वालामुखी की तरह ही यह ऊपर से शांत रहता है पर जब यह फूटता है तब रोगी को लकवा, ह्रदय रोग, गुर्

अपनी पत्नी को क्यों पिलाएं कलौंजी वाला दूध ?

अपनी पत्नी को क्यों पिलाएं कलौंजी वाला दूध ?

आयुर्वेद के अनुसार रात को सोने से पहले दूध पीने से पुरुषों को कई हेल्थ बेनिफिट्स मिलते हैं। अगर इस दूध में कलौंजी के दाने (पांच दाने भी काफी होंगे) मिलाकर पिएं तो ये फायदे और भी बढ़ जाएंगे। दूध और कलौंजी में ऐसे न्यूट्रिएंट्स होते हैं तो मिलकर पुरुषों को हेल्दी रखने में मदद करते हैं। जम्मू इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद के डॉ. अटल बिहारी त्रिवेदीबता रहे हैं रोज कलौंजी वाला दूध पीने के 7 फायदे। साथ ही इस दूध को पीने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

अपनी पत्नी को क्यों पिलाएं कलौंजी वाला दूध ?

नवरात्रि में उपवास के दौरान खाएं काजू, पास नही आएगी कमजोरी..

नवरात्रि में उपवास के दौरान खाएं काजू, पास नही आएगी कमजोरी..

नवरात्रि आते ही आपके पास सबसे बड़ी समस्या खाने की होती है। आप ये सोचते हैं कि व्रत रखते हुए किन चीजों का सेवन करने से शरीर में एनर्जी बनी रही है।

आप उपवास रहने के साथ-साथ घर का और दफ्तर का काम भी करते हैं।

तो आज हम आपको एक ऐसी चीज के बारे में बताएंगे जिसको उपवास के दौरान खाकर आप एनर्जी पा सकते है।

काजू खाकर उपवास में रहे तंदुरुस्त

गर्भावस्था में लें सही आहार

गर्भावस्था में लें सही आहार

हर महिला कि यह इच्छा होती है कि वह एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दे। इस इच्छा को पूर्ण करने के लिए गर्भावस्था मे पौष्टिक आहार का सेवन पर्याप्त मात्रा मे करना बेहद जरुरी है। गर्भस्थ शिशु का विकास माता के आहार पर निर्भर होता है। गर्भवती महिला को ऐसा आहार करना चाहिए जो उसके गर्भस्थ शिशु के पोषण कि आवश्यक्ताओ को पुरा कर सके।
 

पायरिया के आयुर्वेदिक उपचार:

पायरिया के आयुर्वेदिक उपचार:

1. नीम के पत्ते साफ कर के छाया में सुखा लें। अच्छी तरह सूख जाएँ तब एक बर्तन में रखकर जला दें और बर्तन को तुरंत ढँक दें। पत्ते जलकर काले हो जाएँगे और इसकी राख काली होगी। इसे पीसकर कपड़छान कर लें। जितनी राख हो, उतनी मात्रा में सेंधा नमक पीसकर शीशी में भर लें। इस चूर्ण से तीन-चार बार मंजन कर कुल्ले कर लें। भोजन के बाद दाँतों की ठीक से सफाई कर लें। यह नुस्खा अत्यंत गुणकारी है।

Pages