स्वास्थ्य एवं पोषण संबंधित सभी प्रकार के प्रश्नों के लिए आप हमसे संपर्क  कर सकते हैं

WhatsApp No 6396209559  या

हमें फ़ोन काल करें 6396209559

मोटापे का इलाज

मोटापे का इलाज

(१) खाना खूब चबा-चबाकर खायें |
(२) चूना खाना है (एक गेहूं के दाने के बराबर दिन में एक बार ) दस मिनट धूप में टहलें |
(३) त्रिफला चूर्ण एक चम्मच एक गिलास गर्म पानी में उबालकर दो चम्मच गुड़ या शहद मिलाकर काढ़ा बनाकर पियें |
(४) त्रिफला और गिलोय चूर्ण तीन-तीन ग्राम में मिलाकर चाटना है |
(५) पानी हमेशा बैठकर घूँट-घूँट पियें |
(६) भोजन तीन बार से अधिक न करें, भोजन भूख से थोड़ा कम करें |
(७) दिन में कभी न सोयें |
रोग मुक्ति के लिये आवश्यक नियम :
पानी के सामान्य नियम :
१) सुबह बिना मंजन/कुल्ला किये दो गिलास गुनगुना पानी पिएं ।

लहसुन की शक्ति

लहसुन की शक्ति

लहसुन इतना प्रभावशाली है कि इसकी गंध से कई कीड़े इसके आस पास तक नहीं फटकते. यदि आपके अंदर कोई बीमारी है तो यह उन बीमारी के कीड़ों को मारने में काफी  तेजी से काम करता है. लहसुन की एक कली हमारे अंदर पैदा होने वाले अनेको रोगों का नाश कर सकती है. यह कई बीमारियों की रोकथाम तथा उपचार में प्रभावी है. जब आप कुछ भी खाने या पीने से पहले लहसुन खाते हैं तो आपकी ताकत बढ़ती है, तथा यह एक महत्वपूर्ण प्राकृतिक एंटीबायोटिक की तरह कार्य करता है. सुबह खाली पेट लहसुन खाने से यह अधिक प्रभावकारी होता है. इससे बैक्टीरिया ओवरएक्सपोज्ड हो जाते हैं तथा लहसुन की शक्ति से वे अपनी रक्षा नहीं कर पाते.

कितनी फायदेमंद है सौंफ

सौंफ में कई औषधीय गुण मौजूद होते हैं, जिनका सेवन करने से स्वास्थ्य को फायदा होता है। सौंफ हर उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद होती है। 
1-सौंफ में कैल्शियम, सोडियम, आयरन, पोटैशियम जैसे तत्व पाये जाते हैं। सौंफ का फल बीज के रूप में होता है और इसके बीज को प्रयोग किया जाता है। पेट की समस्याओं के लिए सौंफ बहुत फायदेमंद होती है।
सौंफ के लाभ –
1-यदि आपको पेट में दर्द होता है तो भुनी हुई सौंफ चबाइए इससे आपको आराम मिलेगा। सौंफ की ठंडाई बनाकर पीजिए। इससे गर्मी शांत होगी और जी मिचलाना बंद हो जाएगा।

ज़ुकाम क्यों होता है ?

ज़ुकाम क्यों होता है ?

ज़ुकाम और गले में जलन एक आम बीमारी है जो शयद संसार में हर किसी को भोगनी पड़ती है। पूरे संसार में इसके उपर किसी भी तरह की कोई खोज बीन नहीं की गयी और ना ही इसका इलाज सामने आया है और जो भी इलाज ज़ुकाम को लेकर किया जाते है उससे कफ अंदर ही दब जाता है पूरी तरह बाहर नहीं निकल पाता

ज़ुकाम का इलाज न ढूँढ पाने का एक कारण यह भी है कि आज तक ये कोई नहीं बता पाया की आखिर ज़ुकाम की वजह से गले में जलन क्यों होती है और जो कफ शरीर में से नाक के रास्ते निकलता है वह क्यों कैसे और कहाँ बनता है

डाइट में क्या ध्यान रखे?

डाइट में क्या ध्यान रखे?

जिस किसी को भी तेज बुखार है, फिर चाहे कोई-सा भी बुखार हो, उसे हर घंटे बाद गिलास भर लिक्विड लेना चाहिए। बेहतर है कि मरीज को खाली पानी के बजाय नीबू-पानी, ओआरएस का घोल, शिकंजी, नारियल पानी, जूस, दूध, छाछ, मिल्क शेक आदि पीने को दें। बुखार में पानी शरीर से सेल्स में चला जाता है और शरीर के गर्म होने या पसीना आने से उड़ भी जाता है। इससे शरीर में पानी की कमी हो जाती है। खाने में फल, सब्जियां, दाल आदि ज्यादा खाएं। बुखार के दौरान ठोस खाने के बजाय सेमी-सॉलिड और कम मसाले वाला खाना खाएं। विटामिन-सी (नीबू, संतरा, कीवी आदि) भी खाएं। ये मेटाबॉलिज्म बढ़ाते हैं। चाय-कॉफी से परहेज करें। ये लिक्विड को शरीर में

Pages