चिकनगुनिया के दर्द से राहत दिलाने वाला तेल

चिकनगुनिया के दर्द से राहत दिलाने वाला तेल

चिकनगुनिया के दर्द से राहत दिलाने वाला तेल--
----------------------------------------
सामग्री :-
50 ग्राम सरसों का तेल 
50 ग्राम सफेद तिल का तेल 
15 लौंग 
1 टुकडा दालचीनी 
2 टेबल स्पून अजवायन 
1 टेबल स्पून मेथी दाना 
15 लहसुन की कली बारिक कटी हुई 
1 छोटा टुकडा अदरक पिसा हुआ 
1 टी स्पून हल्दी 
2 बडे पीस कपूर 
1 टेबल स्पून एलोवेरा जैल 

 

आयर्वेद में बुखार और दर्द का क्या इलाज है?

आयर्वेद में बुखार और दर्द का क्या इलाज है?

आयर्वेद में चिकनगुनिया फीवर का जिक्र नहीं है, लेकिन इसी से मिलते-जुलते संधि ज्वर का जिक्र है, जिसके लक्षण बुखार, जोड़ों में दर्द और सूजन आदि हैं।
- गिलोय (गुडुची या अमृता) का सेवन करें। बेल से रस निकालकर दिन में 2 बार (5-10 ML) करीब एक-एक टी-स्पून लें। इसके कैप्सूल भी आते हैं। 500 Mg का एक-एक दिन में दो बार कैप्सूल ले सकते हैं।
- तुलसी के 7-8 पत्तों को गर्म पानी, चाय या दूध में उबालकर दिन में दो-तीन बार लें। तुलसी कैप्सूल लेना है तो 500 Mg का दिन में दो बार लें।
- सौंठ शहद में मिलाकर ले सकते हैं, 5-5 ग्राम सुबह और शाम।

हिस्टीरिया : मनोरोग का प्रकोप

हिस्टीरिया : मनोरोग का प्रकोप

सर्वप्रथम एरंड तेल में भुनी हुई छोटी काली हरड़ का चूर्ण ५ ग्राम प्रतिदिन लगातार दे कर उसका उदर शोधन तथा वायु का शमन करें।

सरसों, हींग, बालवच, करजबीज, देवदाख मंजीज, त्रिफला, श्वेत अपराजिता मालकंगुनी, दालचीनी, त्रिकटु, प्रियंगु शिरीष के बीज, हल्दी और दारु हल्दी को बराबर-बराबर ले कर, गाय या बकरी के मूत्र में पीस कर, गोलियां बना कर, छाया में सुखा लें। इसका उपयोग पीने, खाने, या लेप में किया जाता है। इसके सेवन से हिस्टीरिया रोग शांत होता है।

लहसुन को छील कर, चार गुना पानी और चार गुना दूध में मिला कर, धीमी आग पर पकाएं। आधा दूध रह जाने पर छान कर रोगी को थोड़ा-थोड़ा पिलाते रहें।

पानी हमेशा घूँट-घूँट और बैठ कर पिएं !

पानी हमेशा घूँट-घूँट और बैठ कर पिएं !

पानी हमेशा घूँट-घूँट और बैठ कर पिएं !
पानी सदैव धीरे-धीरे पीना चाहिये अर्थात घूँट-घूँट
कर पीना चाहिये, यदि हम धीरे-धीरे पानी पीते हैं
तो उसका एक लाभ यह है कि हमारे हर घूँट में मुँह की
लार पानी के साथ मिलकर पेट में जायेगी और पेट में
बनने वाले अम्ल को शान्त करेगी क्योंकि हमारी
लार क्षारीय होती है और बहुत मूल्यवान होती है।
हमारे पित्त को संतुलित करने में इस क्षारीय लार
का बहुत योगदान होता है। जब हम भोजन चबाते हैं
तो वह लार में ही लुगदी बनकर आहार नली द्वारा
अमाशय में जाता है और अमाशय में जाकर वह पित्त

क्या आप इन रोगो से परेशान है ?

क्या आप इन रोगो से परेशान है ?

ब्रेन मलेरिया, टाइफाईड, चिकुनगुनिया,
डेंगू, स्वाइन फ्लू,
इन्सेफेलाइटिस, माता व अन्य प्रकार के बुखार का इलाज ...................¥

1. 20 पत्ते तुलसी, नीम पर चढ़ी हुई गिलोय (गुडूचि ,गिरुच ,अमृता) का सत् 5gm, सोंठ (सुखी अदरक) 10gm,
10 छोटी पीपर के टुकड़े, सब आपके घर मे आसानी से
उपलब्ध हो जाती है। सब एक जगह पर कूटने के बाद एक गिलास पानी में
उबालकर काढ़ा बनाना है ठन्डा होने के बाद दिन में सुबह, दोपहर और श्याम
तीन बार पीना चाहिए।

Pages

Subscribe to NutriWorld RSS