पायरिया के लक्षण और कारण

पायरिया के लक्षण और कारण

नियमित आहार और दाँतों की रक्षा में रुक्षांस की कमी या पूर्ण रूप से अभाव, दाँतों में खान पान के कण अटकना और दाँतों का सड़ना, दाँतों पर अत्यधिक मैल जमना, मुँह से दुर्गन्ध का निकलना और मुँह में अरुचिकर स्वाद का निर्माण होना, जीवाणुओं का पसरण, मसूड़ों में जलन का एहसास होना और छालों का निर्माण होना, जरा सा छूने पर भी मसूड़ों से रक्तस्राव होना इत्यादि पायरिया के लक्षण होते हैं।असल में मुंह में 700 किस्म के बैक्टीरिया होते हैं। इनकी संख्या करोड़ों में होती है। अगर समय पर मुंह, दांत और जीभ की साफ-सफाई नहीं की जाए तो ये बैक्टीरिया दांतों और मसूड़ों को नुकसान पहुंचाते हैं। पायरिया होने पर दांतों को स

शहद में छिपा है सेहत का राज़

शुद्ध शहद

शहद में कार्बोहाइड्रेट, विटामिन, अमीनो एसिड, प्रोटीन और खनिज पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं। जोकि सेहत के लिए जरूरी होते हैं।

शहद में ग्लूकोज पाया जाता है। साथ ही शहद में पाए जाने वाले  विटामिन शरीर के भीतर जाते ही कुछ ही समय में घुल जाते  है।

बच्चों की खांसी दूर करने के लिए अदरक के रस में शहद मिलाकर देने से खांसी में आराम मिलता है। सूखी खांसी में भी शहद और नींबू का रस लेने से फायदा होता है।

जी मिचला रहा हो या फिर उल्टी आने की शिकायत हो तो शहद लेना चाहिए।

गन्ने के रस में है कैंसर से लड़ने की ताकत

गन्ने के रस में है कैंसर से लड़ने की ताकत

गन्ने का रस बहुत ही सेहतमंद और गुणकारी पेय है. इसमें कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, मैग्नेशियम और फॉस्फोरस जैसे आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं. इनसे हड्डियां मजबूत बनती हैं और दांतों की समस्या भी कम होती है. गन्ने के रस के ये पोषक तत्व शरीर में खून के बहाव को भी सही रखते हैं. वहीं इस रस में कैंसर व मधुमेह जैसी जानलेवा बीमारियों से लड़ने की ताकत भी होती है.

दूर करे घुटने और कोहिनी का कालापन

दूर करे घुटने और कोहिनी का कालापन

आमतौर पर हमारे कोहनी और घुटने का रंग हमारे शरीर के रंग से कुछ गहरा होता है. लेकिन आप चाहें तो कोहनी और घुटने के कालेपन को कुछ खास घरेलू उपायों की मदद से दूर कर सकते हैं.

गाजर है ब्रेस्ट कैंसर से बचाव का बेहतर उपाय

 गाजर है ब्रेस्ट कैंसर से बचाव का बेहतर उपाय

 बेस्ट कैंसर की अंतिम स्टेज में सर्जरी कराने के सिवा कोई दूसरा विकल्प नहीं रह जाता है. पर हाल ही में हुए एक शोध में कहा गया है कि गाजर खाने से ब्रैस्ट कैंसर  होने की आशंका  60 फीसदी तक कम हो जाती है. इसमें मौजूद बीटा कैरोटीन कैंसर के खतरे को कम करने में सहायक होता है. इसके अलावा दूसरी कई ऐसी सब्जियां और फल हैं जिनमें बीटा-कैरोटीन पाया जाता है. पालक, लाल मिर्च और आम में भी इस तत्व की प्रचुर मात्रा होती है. 

Pages