क्या पेनकिलर ले सकते हैं? अगर हां, तो कब और कितनी मात्रा में?

स्वास्थ्य एवं पोषण संबंधित सभी प्रकार के प्रश्नों के लिए आप हमसे संपर्क  कर सकते हैं

स्वास्थ्य सम्बंधित समस्या के लिए फार्म भरें .

या 

WhatsApp No 6396209559  या

हमें फ़ोन काल करें 6396209559

 

क्या पेनकिलर ले सकते हैं? अगर हां, तो कब और कितनी मात्रा में?

ज्यादा दर्द होने पर पेनकिलर ले सकते हैं लेकिन डेंगू की आशंका पूरी तरह खत्म होने के बाद ही।  हार्ट, डायबिटिज और किडनी के मरीजों को खासतौर पर पेनकिलर से बचना चाहिए। जरूरत लगे तो पैरासिटामोल (Paracetamol) लें। 500-650 Mg की दिन में दो-तीन बार ले सकते हैं। यह मार्केट में क्रोसिन (Crocin), कालपोल (Calpol) आदि ब्रैंड नेम से मिलती है। बच्चों को हर चार घंटे में 1 मिली प्रति किलो वजन के अनुसार इसकी लिक्विड दवा दे सकते हैं। यह बुखार के अलावा पेनकिलर भी है। जिन्हें बुखार नहीं है, वे ट्रामाडोल (Tramadol) ले सकते हैं। यह मार्केट में अल्ट्रासेट (Ultracet), एक्युपेन (Acupain), डामोडोल (Domadol) आदि नाम से मिलती है। 50-100 Mg की दिन में 2-3 बार तक ले सकते हैं। ये दवाएं सेफ हैं और जब तक जरूरत लगें, ले सकते हैं। बाकी कोई दवा भी दवा डॉक्टर से पूछकर ही लें। वैसे, पेनकिलर कम-से-कम ही खाना चाहिए। कोई भी दवा खाली पेट न लें।