Triphala Juice

त्रिफला रस 
त्रिफला रस आयुर्वेद का वरदान है त्रिफला रस का प्रयोग आयुर्वेदचार्य सेकड़ो वर्षो से सभी प्रकार की बीमारियों को ठीक करने में प्रयोग करते आ रहे है इसमें आयुर्वेद की मतानुसार वात ,पित और कफ तीन दोष माने गये है त्रिफला हरंड, बहेडा और आवला से मिलकर बनता है और उक्त त्रिदोषो को दूर करता है इसके विस्तृत लाभ निम्न है :- 
•    त्रिफला रस के सेवन से गैस,कब्ज ,एसिडिटी आदि की समस्या दूर होती है तथा पाचन तंत्र  मजबूत होता है 
•    यह लीवर की सभी समस्याओ को दूर कर लीवर को शक्ति प्रदान करता है 
•    यह ब्लड प्रेसर  को नियंत्रित करता है 
•    यह केलोस्ट्रोल को संतुलित करता है 
•    यह ह्रदय को शक्ति प्रदान कर ह्रदय गति को सामान्य करता है 
•    त्रिफला रस का सेवन लाल रुधिर काडिकाओ के निर्माण को बढाता है
•    त्रिफला रस हमारे शरीर की प्रतिरोधक छमता बढाता है
•    यह शरीर में इन्फेक्शन को रोकता है तथा सर्दी ,खासी ,कफ तथा एलर्जी  में अत्यंत लाभ करी है 
•    यह सीने एवं फेफड़ो  में जमे हुए  कफ  को पिघलाकर बाहर निकालने में सहायक है 
•    यह मस्तिष्क को शक्ति प्रदान कर एकाग्रता  को बढाता है तथा डिप्रेशन से बचाता है 
•    यह नर्वर्स सिस्टम को शक्ति प्रदान कर उससे सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करता है 
•    त्रिफला रस आँखों के लिए टॉनिक का कार्य करता है यह आँखों की रोशनी को बढाता है तथा आँखों पर पड़ने वाले मधुमेह के प्रभाव को भी दूर करता है 
•    यह मानसिक तनाव व मानसिक थकान को भी कम करता है 
•    त्रिफला रस गुर्दों  को संक्रमण से बचाता है तथा पथरी बनने से रोकता है
•    यह पौरुस शक्ति को बढाता है 
•    यह शुकारंडु की संख्या बढाता है तथा स्वाथ्य शुकड़ो के निर्माण में सहायक है 
•    महिलाओ में अनियमित महावारी  अति रक्त स्त्रव  एवं लिकोरिया आदि की समस्या में अत्यंत लाभकारी है 
•    यह अग्नाशय  की बीटा सेल्स को इन्सुलिन के निर्माण के लिए उत्तेजित  करता है अत: मधुमेह  में अत्यंत लाभकारी है 
•    यह त्वचा के लिए भी एक टॉनिक का कार्य लार्ता है यह  त्वचा को कील ,मुहासे  व झाइयो से बचाता है 
•    यह शरीर में कोशिकाओं के अनियमित  विभाजन को रोकता है अथार्त  शरीर  में कैंसर की सम्भावना को कम करता है 
•    यह शरीर का डीटाकशिफ़िक्तिओन करता है 
नोट :- गर्भवती महिलाये त्रिफला रस का सेवन न करे