स्वास्थ्य एवं पोषण संबंधित सभी प्रकार के प्रश्नों के लिए आप हमसे संपर्क  कर सकते हैं

स्वास्थ्य सम्बंधित समस्या के लिए फार्म भरें .

या 

WhatsApp No 6396209559  या

हमें फ़ोन काल करें 6396209559

 

पीपल के पेड़ और पत्तों के फायदे

पीपल

1 अस्थमा में बहुत ही फायदेमंद
अस्थमा फेफड़ों से संबंधित बीमारी है जिससे ज्यादातर बूढ़े और बच्चे प्रभावित होते हैं। अस्थमा या सांस की बीमारी में पीपल के पेड़ की छाल बहुत ही गुणकारी है। इसके लिए छाल का अंदरूनी हिस्सा निकालर उसका चूर्ण बना लें। इसे खाने से सांस संबंधित समस्याएं दूर हो सकती है।

#2 पीलिया रोग में दे लाभ
पीलिया में आपकी त्वचा और आपकी आंखें पीले हो जाते हैं। यह रोग कुछ दिनों के लिए रहता है। यदि आप इससे छुटकारा पाना चाहते हैं तो नियमित रूप से पीपल के पत्तों का शरबत बनाकर और मिश्री मिलाकर पीने से लाभ मिलता है।

रिफाईनड तेल बनता कैसे हैं

रिफाईनड तेल बनता कैसे हैं

आप की हत्या की साजिश
रची गई है! 
और आप स्वयं ही आत्म हत्या के पक्ष में हैं! 
वो भी परिवार सहित.? 

आप का और आप के परिवार का जीवन बचाना चाहते हैं तो यह पोस्ट जरूर पढे!

सबसे ज्यादा मौतें देने वाला भारत में कोई है तो वह है... रिफाईनड तेल

 केरल आयुर्वेदिक युनिवर्सिटी आंफ रिसर्च केन्द्र के अनुसार, हर वर्ष 20 लाख लोगों की मौतों का कारण बन गया है... रिफाईनड तेल

आखिर भाई राजीव दीक्षित जी के कहें हुए कथन सत्य हो ही गये! 

दूध पीने के कुछ नियम

दूध जहाँ पौष्टिक मन जाता है वहीं कुछ लोग दूध पीने से परहेज करते है बचपन में माँ बार बार दूध पिलाने का प्रयास करती थी लेकिन हम लोग बच कर भागते थे आज हम अपने बच्चों को दूध पिलाने का प्रयास करतें है 

 

आयुर्वेद के अनुसार दूध पीने के कुछ नियम

कुछ लोगों को दूध पीने के बाद हजम नहीं हो पाता। उन्‍हें पेट फूलने या फिर बार खराब होने की समस्‍या से जूझना पड़ता है। आयुर्वेद के अनुसार दूध पीने के कुछ नियम हैं, जिनका पालन करने से आपको दूध हजम हो जाएगा।

आयुर्वेद में हैं दूध पीने के कुछ नियम

Tags: 

मुहांसों के लिए मेथी है बहुत उपयोगी

अगर आपके चेहरे में बहुत से मुहांसों के दाग व धब्बे हैं तो मेथी काफी सहायता कर सकती है। जी हां, मेथी के पत्तों का फेस-पैक बना सकते है आप या चाहे तो आप मेथी के बीजों को उबालकर उनका पेस्ट भी बना सकते हैं। इसे चेहरे के दाग धब्बो पर लगाए और लगभग 15-20 मिनट के लिए छोड़ दे। बाद में ठंडे पानी से धो डाले।

वरदान है तुलसी

तुलसी

ज्यादातर हिंदू परिवारों में तुलसी की पूजा की जाती है. इसे सुख और कल्याण के तौर पर देखा जाता है लेकिन पौराणिक महत्व से अलग तुलसी एक जानी-मानी औषधि भी है, जिसका इस्तेमाल कई बीमारियों में किया जाता है. सर्दी-खांसी से लेकर कई बड़ी और भयंकर बीमारियों में भी एक कारगर औषधि है.

Pages