करेले को खाये छिलके के साथ

 करेले को खाये छिलके के साथ

करेले का स्वाद भले ही कड़वा हो, लेकिन सेहत के लिहाज से यह बहुत फायदेमंद होता है. करेले में अन्य सब्जी या फल की तुलना में ज्यादा औषधीय गुण पाये जाते हैं. करेले को कुदरत ने कड़वा ने बनाया है लेकिन करेले को निचोड़ के उस की कड़वाहट निकाल देते हैं . करेले का छिलका नहीं उतारना चाहिए और उसका कड़वा रस नहीं निकालना चाहिए . हफ्ते में, पन्दरह दिन में एक दिन करेला खाना तबियत के लिए अच्छा है .

1-लकवे के मरीजों के लिए करेला बहुत फायदेमंद होता है. इसलिए लकवे के मरीज को कच्चा करेला खाना चाहिए.

2-लीवर से संबंधित बीमारियों के लिए तो करेला रामबाण औषधि है.

एक ग्लास दूध से ज्यादा फायदेमंद है बियर

एक ग्लास दूध से ज्यादा फायदेमंद है बियर

अक्सर अपने लोगो को कहते सुना होगा की दूध सेहत के लिए काफी फायदेमंद रहता है. लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी की बियर दूध से ज्यादा फायदेमंद होती है. हमे पता है आपको हमारी बात पर यकीन नहीं होगा.

इसलिए हम आपको बियर से होने वाले फायदे बताने जा रहे है. जिससे सुनने के बाद आप खुद हमारी बात पर यकीन करेंगे.

- बियर में हेट्रोसाइकिलिक अमीन्स पाया जाता है. कार्सिनोजेन (कैंसर पैदा करने वाले हानिकारक तत्व) जैसे हानिकारक तत्व को हमारे शरीर से हटाने में मदद करता है.

- संतुलित मात्रा में बियर का सेवन करने से दिल से जुड़े रोग होने की सम्भावना में 31 प्रतिशत तक की कमी आती है.

हरा प्याज रखता है शुगर लेवल को कण्ट्रोल

हरा प्याज रखता है शुगर लेवल को कण्ट्रोल

हरे प्याज में विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन बी2 भरपूर पाए जाते हैं. इसके अलावा ये थायमीन और विटामिन के का भी एक अच्छा स्त्रोत है. जानिए, हरे प्याज खाने के बेमिसाल फायदे:

1-सर्दी-जुकाम में राहत के लिए स्प्रिंग अनियन का इस्तेमाल करना बहुत फायदेमंद होता है. ये श्वसन प्रक्रिया को बेहतर बनाता है.

2-हाल में हुए एक अध्ययन के मुताबिक, हरे प्याज में मिलने वाला सल्फर ब्लड प्रेशर को कम करने में सहायक होता है. ये इंसुलिन के स्तर को संतुुलित बनाए रखता है.

3-हरे प्याज में पर्याप्त मात्रा में सल्फर पाया जाता है. इसके सेवन से विभिन्न प्रकार के कैंसर होने का खतरा कम हो जाता है.

जानें शरीर के दोष

शरीर के दोष

आपकी त्वचा आपकी आयुर्वेदिक संरचना पर आधारित होती है। हमारे शरीर में तीन तरह के दोष पाए जाते हैं- वात, पित्त और कफ। वात दोष युक्त व्यक्ति की त्वचा शुष्क होती है, रोमछि द्र महीन होते हैं और इस पर झुर्रियां जल्दी पड़ती हैं। पित्त दोष से पीडि़त लोगों को त्वचा पर रोजेसिया, पपड़ी पडऩा और दाने पडऩे जैसी  समस्याओं से दो-चार होना पड़ता है। वहीं कफ दोष से पीडि़त लोगों के रोमछिद्र बड़े होते हैं जिससे ब्लैकहेड्स और मुहासों जैसी समस्याए सामने आती हैं।

खूबसूरत कौन नहीं दिखना चाहता

खूबसूरत  कौन नहीं दिखना चाहता

 रंग-रूप बदलना हमारे हाथ में नहीं, मगर अपनी त्वचा की सही देखभाल करके बेदाग और आकर्षक जरूर दिखा जा सकता है। स्वस्थ त्वचा हमारी खूबसूरती ही नहीं बढ़ाती, बल्कि हमारे अच्छे स्वास्थ्य की भी निशानी है। अगर आप कुदरती तौर पर खूबसत और उजली रंगत के मालिक हैं, तो भी आपको ये खूबसूरती बरकरार रखने के लिए उचित देखभाल की जरूरत है। बाजार ऐसे कई उत्पादों से भरे पड़ें हैं जो खूबसरती बढ़ाने का दावा करते हैं, लेकिन इनके इस्तेमाल से पहले हमें इनमें मौजूद केमिकल के दुष्परिणामों के बारे में भी सोच लेना चाहिए। आयुर्वेद खूबसूरती बढ़ाने के लिए काफी प्राचीन विज्ञान के रूप में जाना जाता है। आयुर्वेदिक उत्पाद जड़ी बूटिय

Pages