आन्त्रिक ज्वर का कारण

आन्त्रिक ज्वर का कारण

इसे छूत का बुखार कहा जाता है | यह मारक महामारी के रूप में भी फैलता है | इस रोग का जीवाणु मुंह के रास्ते पेट में चला जाता है और छोटी आंत में गुच्छों के रूप में जम जाता है, जिससे लम्बे समय तक ज्चर बना रहता है, इसीलिए इसे मियादी बुखार या मन्थर ज्वर भी कहा गया है |

कैसे बनाएं मेथी का पानी

कैसे बनाएं मेथी का पानी

रात को एक बड़ी चम्मच मेथी के दानों को दो गिलास पानी मे भिगोने के लिए रख दें। और सुबह इसे छानकर पीएं।

मेथी के अन्य फायदे

आइये जानते हैं तुलसी के फायदे...

आइये जानते हैं तुलसी के फायदे...

1. तुलसी रस से बुखार उतर जाता है। इसे पानी में मिलाकर हर दो-
तीन घंटे में पीने से बुखार कम हो जाता है।

2. कई आयुर्वेदिक कफ सिरप में तुलसी का इस्तेमाल अनिवार्य है।
यह टी.बी,ब्रोंकाइटिस और दमा जैसे रोंगो के लिए भी फायदेमंद
है।

3. जुकाम में इसके सादे पत्ते खाने से भी फायदा होता है।

4. सांप या बिच्छु के काटने पर इसकी पत्तियों का रस,फूल और
जडे विष नाशक का काम करती हैं।

5. तुलसी के तेल में विटामिन सी,कै5रोटीन,कैल्शियम और
फोस्फोरस प्रचुर मात्रा में होते हैं।

खाइये ये फूड और कीजिये अपने लिवर को साफ

खाइये ये फूड और कीजिये अपने लिवर को साफ

लीवर शरीर के महत्वपूर्ण अंगो में से एक है जिसका स्वस्थ रहना बहुत आवश्यक है। लिवर के स्वस्थ रहने से इम्यून सिस्टम अच्छे से काम करता है, किसी भी तरह की एलर्जी से बचाता है साथ ही वजन पर भी नियंत्रण रखता है। अपने लिवर को स्वस्थ रखने के लिए आप वही आहार लें जो उसकी सफाई करे। 
लिवर की सफाई करने के लिए आपको एक दो दिन पहले से हल्का उपवास रखना पड़ता है जिससे शरीर से मौजूदा विषाक्त पदार्थ बाहर निकल सके।

Pages

Subscribe to NutriWorld RSS